यहां सोशल डिस्टेंसिंग टूटते ही डिवाइस बजा देगा अलार्म, जानिए कैसे करेगा ये काम

सार
रेलवे वर्कशॉप में सोशल डिस्टेंसिंग टूटते ही डिवाइस बजा देगा अलार्म
डिवाइस का हुआ सफल ट्रायल, अब सभी कर्मियों को रखना होगा अनिवार्य
विस्तार
रेलवे वर्कशॉप में अब रेलकर्मी आपस में नजदीक आएंगे तो एक खास डिवाइस अलार्म उन्हें सचेत कर देगा। शुक्रवार को इस डिवाइस का सफल ट्रायल कर लिया गया। अब इसे सभी रेलकर्मियों को अपने जेब में रखना होगा।

वर्कशाप में एक ऐसी डिवाइस बनाई गई है जो सोशल डिस्टेंसिंग टूटते अलर्ट कर देगा और अलार्म बज जाएगा। वर्कशॉप प्रशासन अपने कर्मचारियों को एक ऐसा पॉकेट डिवाइस देने जा रहा है जो दो लोगों के बीच छह फीट की दूरी कम होते ही अलर्ट कर देगी और अलार्म बजने लगेगा।
इससे कर्मचारी खुद तो अलर्ट होगा ही साथ ही अधिकारियों को भी पता चल जाएगा कि कहीं प्रोटोकॉल का उल्लंघन हो रहा है। यह डिवाइस दूरी और सेंसर आधारित है। दो डिवाइस जब सोशल डिस्टेंसिंग के मानक छह फीट से कम दूरी पर होंगे इसमें अलार्म बजने लगेगा।
डिवाइस एक से डेढ़ सप्ताह में कर्मचारियों में वितरित कर दिया जाएगा। यह डिवाइस घड़ी के आकार का होगा। इसे कर्मचारी पहन भी सकते हैं और जेब में भी रख सकते हैं।
ऐसे काम करेगा डिवाइस
ब्लूटूथ और प्रॉक्सीमिटी सेंसर के आधार पर डिवाइस काम करेगा। डिवाइस में एक ब्लूटूथ, प्रॉक्सीमिटी सेंसर, रिकार्डिंग चिप, अलार्म और चार्जेबल बैट्री होगी। प्रॉक्सीमिटी सेंसर डिस्टेंस को रीड करेगा और ब्लूटूथ से डिवाइस आपस में जुड़ जाएगा। छह फीट से जैसे ही नजदीक दो डिवाइस आएंगे अलार्म बज जाएगा। अलार्म को चार मीटर दूर तक खड़े लोग सुन सकेंगे। एक बार चार्ज करने के बाद बैट्री तीन दिन तक चलेगी।

एनईआर सीपीआरओ पंकज कुमार सिंह ने बताया कि वर्कशाप में अनुज मिश्रा के नेतृत्व में एक इलेक्ट्रानिक डिवाइस विकसित की गई है। जो ब्लूटूथ आधारित सेंसर है। इसका वजन 100 ग्राम है। इसे कर्मचारी कलाई में पहन सकते हैं या जेब में रख सकते हैं। यह सोशल डिस्टेसिंग मेंटेंन करने में बहुत सहायक होगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: कॉपीराइट अधिनियम के अनुसार इस न्यूज़ पोर्टल का कंटेंट कॉपी करना गैरकानूनी है